Day Special

विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंकों की बढ़ी सोने की खरीदारी: अब अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी पर नजर

विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंकों की बढ़ी सोने की खरीदारी: अब अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी पर नजर content image f45a2a2f 82df 456e a4e8 f26fe1346631 - Shakti Krupa | News About India

– बुलियन बिट्स: दिनेश पारेख

– अगर न्यू ओमाइक्रोन वायरस का प्रकोप बढ़ता है तो सोने की कीमत भी बढ़ सकती है

विश्व बाजार में निवेशकों के 16-17 दिसंबर को फेड की बैठक में मिलने की उम्मीद है। फेड ब्याज दरों को बढ़ाने के लिए और बांड में निवेश को कितनी जल्दी कम करने के निर्णय के लिए इंतजार कर रहा है। पिछले सप्ताहांत, कीमत 15 से 16 रुपये थी।

फेड धन के प्रवाह को कम किए बिना बाजार निवेशकों को ब्याज वाले सोना अर्जित करने के लिए आकर्षित नहीं करेंगे। डॉलर के मजबूत होने से दुनिया की अन्य मुद्राओं में सोना सस्ता हो रहा है. जहां नवंबर 2021 में पर्थ मिंट ने अपनी सोने की बिक्री को दोगुना कर दिया, वहीं ब्रिटिश रॉयल मिंट में सोने की बिक्री के लिए सबसे व्यस्त दिन 21 नवंबर था। सोने की हाजिर बिक्री में उछाल के कारण नवंबर में सोने की बिक्री दोगुनी हो गई। “परंपरागत रूप से क्रिसमस पर सोने में निवेश कम हुआ है, लेकिन इस बार सोने की मांग बढ़ी है और मांग बढ़ी है।” रॉयल मिंट में कीमती धातुओं के विपणन प्रमुख कैटरीना हिक्स के अनुसार यह है। उन्होंने कहा कि साल के सबसे व्यस्त दिन 15 मई को, जब सोने की कीमत 1,200 रुपये प्रति औंस के आसपास मँडरा रही थी, सोने की बिक्री का दबाव विशेष रूप से मजबूत था।

सोने की कीमतों में और गिरावट नहीं आएगी क्योंकि हाजिर सोने की वैश्विक मांग लगातार बढ़ रही है। इसमें रूसी वित्त मंत्री ने कहा कि वह 6 दिसंबर और 19-202 जनवरी को 206 मिलियन का सोना खरीदेंगे। इससे पहले उन्होंने नौ नवंबर और दिसंबर की शुरुआत में 2.8 अरब का सोना खरीदा था।

कई देश सोना खरीद रहे हैं और उसके केंद्रीय बैंक अपनी मुद्राओं को स्थिर रखने के लिए सोना खरीद रहे हैं। कजाकिस्तान हर समय सोना खरीदता है और उसने इस साल 5 टन सोना खरीदा है, जिससे उसके सोने का भंडार बढ़कर 304 टन हो गया है। भारत ने तब 4.5 टन सोना खरीदा और 2006 से अपने भंडार को बढ़ाकर 711 टन कर दिया। रूस ने इस महीने 4 टन सोना खरीदा और 303 टन का रिजर्व रखा। आयरलैंड ने अक्टूबर में 1 टन सोना और 2006 में 500 किलो सोना खरीदा था। मंगोलिया ने तब अक्टूबर में 4.5 टन सोना खरीदा था, जिसे अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से मंजूरी का इंतजार था।

इसके अलावा, उज्बेकिस्तान ने वैश्विक बाजार में 3 टन, तुर्की ने 3 टन और कतर ने 3 टन खरीदकर सोना खरीदना जारी रखा है। नए वायरस ने दुनिया में एक नया डर फैला दिया है और अगर इस जीवंतता को नियंत्रित नहीं किया गया तो निवेशक एक बार फिर से सोना चुनकर सोना खरीदना शुरू कर देंगे और इससे कीमतों पर असर पड़ेगा। हर कोई इस बात से सहमत है कि महंगाई से बचाव के लिए सोना खरीदना सबसे अच्छा तरीका है।

तेल की बढ़ती कीमतें तेल उत्पादक देशों को सोने में नए पैसे को रोकने के लिए मजबूर करेंगी। निकट भविष्य में ओमाइक्रोन वाइब्रेंट का प्रसार फेड की नीति को दरकिनार कर और उसकी नीति की अनदेखी करके सोने में निवेश करना शुरू कर देगा। फिलहाल सोना 1,200 रुपए प्रति औंस के करीब पहुंच जाएगा।

सप्ताह के दौरान विश्व बाजार में चांदी में 2120 से 5 सेंट प्रति औंस के बीच उतार-चढ़ाव रहा, जो 20 सेंट प्रति औंस की मामूली उतार-चढ़ाव को दर्शाता है।

चांदी के पलटने की उम्मीद नहीं है और लोग और निवेशक चांदी की कीमत के स्थिर होने का इंतजार कर रहे हैं। हाल के कॉर्पोरेट घोटालों के परिणामस्वरूप इस विशेषता की मांग में काफी वृद्धि हुई है। कुल मिलाकर चांदी इस साल दिसंबर में 500/200 सेंट प्रति औंस के बीच आ जाएगी।

घरेलू सोने के बाजार में अल्पकालिक वैश्विक उतार-चढ़ाव के कारण सप्ताह के दौरान सोने की कीमतों में 200 रुपये प्रति दस ग्राम का उतार-चढ़ाव आया। सोने की कीमतें करीब 2,000 रुपये प्रति दस ग्राम पर स्थिर हो गई हैं। कीमतों में कम उतार-चढ़ाव के चलते निवेशक बाजार से दूर रहते हैं।

कीमतों में गिरावट के कारण पुराने सोने के राजस्व में गिरावट आई है। तस्करी के सोने के राजस्व में थोड़ा सुधार हुआ है। हाजिर सोने का आयात भले ही सोने की तुलना में 500 रुपये प्रति दस ग्राम सस्ता हो, लेकिन व्यापारी इसे बिलों में खरीदते हैं।

आयातक हर कीमत पर सोना आयात कर बाजार में आपूर्ति करते हैं। वायदा और हाजिर सोने के बीच का अंतर 500 रुपये से घटकर 1,000 रुपये प्रति दस ग्राम हो गया है। फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि वह पद छोड़ने के बाद क्या करेंगे। ओमाइक्रोन वाइब्रेंट ने डर का माहौल बना दिया है कि फिर से लॉकडाउन की नई स्थिति पैदा हो जाएगी। अगर सोने की मांग बढ़ती है तो कीमतों में तेजी आने की संभावना है।

Photo of KJMENIYA

KJMENIYA

Hi, I am Kalpesh Meniya from Kaniyad, Botad, Gujarat, India. I completed BCA and MSc (IT) in Sharee Adarsh Education Campus-Botad. I know the the more than 10 programming languages(like PHP, ANDROID,ASP.NET,JAVA,VB.NET, ORACLE,C,C++,HTML etc..). I am a Website designer as well as Website Developer and Android application Developer.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button